संयुक्त राष्ट्र की चेतावनी, महामारी के कारण आ सकता है अकाल.

0
8

जोआ डोरिया ब्राज़ील के सबसे धनी राज्य साओ पालो के गवर्नर हैं. एक समय में वे ब्राज़ील के राष्ट्रपति ज़ायर बोलसोनारो के सहयोगी थे. लेकिन ये दोनों लोग अब इस बात को लेकर भिड़ गए हैं कि कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप को कैसे रोका जाना चाहिए.

बुधवार को बताया गया कि बीते 24 घंटे में कोविड-19 की वजह से ब्राज़ील में 615 लोगों की मौत हुई है. ब्राज़ील में एक दिन में कोरोना वायरस की वजह से मरने वालों की अब तक की यह सबसे अधिक संख्या है.

डोरिया ने अपने पूरे राज्य में लॉकडाउन लागू कर रखा है. लेकिन बोलसोनारो चाहते हैं कि सिर्फ़ वही लोग घरों में रहें जिन्हें बीमारी से सबसे ज़्यादा ख़तरा है, बाकी लोग अपने काम पर लौटें.

माना जा रहा है कि बोलसोनारो कोरोना वायरस महामारी की गंभीरता को समझ नहीं रहे हैं. पिछले महीने राष्ट्रपति ज़ायर बोलसोनारो लॉकडाउन विरोधी एक रैली में भी शामिल हुए थे जहाँ उन्हें बिना मुँह पर हाथ लगाए खांसते हुए भी देखा गया था.

तभी से डोरिया और बोलसोनारो के बीच कोरोना वायरस महामारी को लेकर वैचारिक मतभेद है.

डोरिया ने कहा, “हम दो वायरसों से लड़ रहे हैं. एक है कोरोना वायरस, दूसरा है बोलसोनारो वायरस.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here