माता-पिता ने छोड़ा; दो मासूमों को टैंक में गुजारनी पड़ी रातें

0
8

https://www.tatkalsamachar.com/?p=2571

शिमला, Tatkal Samachar !! कर्फ्यू में जहां लोग घर में रह रहे हैं वहीं संजौली में दो मासूम सूखे वाटर टैंक में रहने के लिए मजबूर थे। क्योंकि दोनों बच्चों के माता-पिता छोड़कर कहीं चले गए हैं। इन बच्चों को उमंग फाउंडेशन के अध्यक्ष अजय श्रीवास्तव ने पुलिस के साथ रेस्क्यू करवा रॉकवुड स्थित बाल आश्रम में भेज दिया है। मंगलवार को हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी निवासी एसजेवीएन के अधिकारी सनी सराफ ने अजय श्रीवास्तव को जानकारी दी थी। सनी सराफ ने बच्चों के खाने व कपड़ों का प्रबंध कर रहे थे।

संजौली की हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में निर्माणाधीन मकान में भूमिगत सूखे पानी के टैंक में रह रहे दो नेपाली मूल के बच्चों को मंगलवार रात 12 बजे रेस्क्यू किया गया। दोनों बच्चों कर्फ्यू से पहले से पानी के टैंक में रात गुजार रहे थे। मासूम बच्चों के माता-पिता ने कहीं अलग-अलग शादी कर ली है। लिहाजा अनाथ होने पर उन्हें रहने के लिए यह जगह सबसे सुरक्षित लगी। दोनों बच्चे अपनी उम्र 10 वर्ष और 11 वर्ष बता रहे हैं। कर्फ्यू दौरान कमेटी सदस्यों को किसी को बाहर निकालने की अनुमति नहीं है। फोन आने पर शिकायतकर्ता को गाइड था कि पुलिस या चाइल्ड लाइन में संपर्क करें ताकि बच्चों का रेस्क्यू किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here