पंजाब-हरियाणा और चंडीगढ़ में ‘रेड’ अलर्ट, 3 डिग्री से नीचे गया तापमान, बन रहे बारिश के आसार

0
15

उत्तर भारत में हाड़ कंपा देने वाली ठंड पड़ रही है, जिसके चलते पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है।  तीनों राज्यों में रविवार को तापमान तीन डिग्री से नीचे चला गया। हालांकि दिन में धूप खिलने से राहत मिली, लेकिन शाम होते ही घना कोहरा छा गया और कड़ाके की ठंड पड़ी। भारतीय मौसम विभाग के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि एक से दो जनवरी के बीच तीनों राज्यों में बारिश हो सकती है।

रोजाना रिकॉर्ड तोड़ रहा मौसम
मौसम विभाग के मुताबिक, हरियाणा का हिसार और पंजाब का फरीदकोट सबसे ठंडे इलाके रहे। हिसार का तापमान पांच डिग्री से नीचे रहा। सबसे कम तापमान फरीदकोट का 2 डिग्री रहा। बठिंडा में तापमान 2.4 डिग्री दर्ज किया गया है। चंडीगढ़ के न्यूनतम तापमान में माइनस 3 डिग्री गिरावट दर्ज की गई। रात में पारा गिरकर 2.9 डिग्री पहुंच गया। विशेष उल्लेखनीय है कि इस साल 17 दिसंबर से रोजाना ठंड को लेकर पुराने रिकॉर्ड टूट रहे हैं।

गलन से परेशान दिखे लोग
घनी धुंध के कारण विजिबिलिटी भी काफी कम हो गई है। मजबूरी वश वाहन चालकों को दिन में हाईबीम पर लाइटें जलानी पड़ रही हैं। ट्रेन और बसें अपने निर्धारित समय से देरी से पहुंच रही हैं। सुबह से शाम तक एक जैसा हाल बना हुआ है। सर्द हवाओं और मौसम में गलन से लोग प्रभावित हो रहे हैं। मौसम विभाग का कहना है कि लोगों को अभी कोहरे से राहत नहीं मिलेगी। अभी घना कोहरा और कंपकंपाती ठंड और परेशान करेगी।

उड़ानें भी देरी से पहुंची
खराब मौसम का असर फ्लाइटों के संचालन पर भी पड़ रहा है। 28 दिसंबर को खराब मौसम के कारण एयर इंडिया की सुबह धर्मशाला की फ्लाइट रद्द कर दी गई थी। गो एयर की मुंबई-चंडीगढ़ फ्लाइट भी इसी कारण कैंसिल हुई, इंडिगो की बंगलूरू से चंडीगढ़ आने वाली फ्लाइट देरी से पहुंची। एयर एशिया की बंगलूरु-चंडीगढ़ भी निर्धारित समय से दो घंटा देरी से पहुंची। इंटरनेशनल एयरपोर्ट चंडीगढ़ से फ्लाइटों का संचालन दोपहर में शुरू हुआ।

बसें देरी से पहुंच रहीं
चंडीगढ़ से रात में चलने वाली सभी बसें अपने निर्धारित समय से 1 से 2 घंटे देरी से पहुंच रही हैं। सीटीयू के एक बस चालक ने बताया कि शहरी क्षेत्रों के बाहर निकलते ही उन्हें घना कोहरा मिल जाता है। जहां बस की स्पीड 80 किलोमीटर प्रतिघंटा होनी चाहिए, दुर्घटना की आशंका को देखते हुए 40 किलोमीटर प्रतिघंटा तक ही चलाना पड़ रहा है। इससे उन्हें अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए 2 घंटे तक देरी हो जा रही है।

ये सावधाननियां बरतें
धुंध के दौरान गंतव्य स्थान पर जाने से पहले मौसम की जानकारी जरूर लें। वाहन धीमी गति से वाहन चलाएं। धुंध में लो-बीम हेड लाइट का इस्तेमाल करें। इंडिकेटर ऑन रखें। विजिब्लिटी शून्य होने पर फॉग लाइट को उपयोग अवश्य करें। यह भी सुनिश्चित करें कि वाहनों की हेड लाइट, टेल लाइट, फॉग लाइट सहित इंडिकेटर, ब्रेक, टायर, विंडस्क्रीन वाइपर, बैटरी व कार हीटिंग सिस्टम सही तरीके से काम कर रहे हैं। ओवरटेकिंग, लेन बदलने, फ्री-वे और व्यस्त सड़कों पर वाहन रोकने से बचें। वाहनों के बीच उचित दूरी बनाए रखें। वाहन चालक सड़क पर पेंट की गई लाइन को गाइड के रूप में उपयोग करते हुए वाहन चलाएं। धुंध के दौरान मोबाइल तथा म्यूजिक सिस्टम का उपयोग न करें। घना कोहरा होने पर, एक सुरक्षित स्थान पर वाहन को रोककर धुंध कम होने तक प्रतीक्षा करें। बाहर की आवाज का ध्यान रखने के लिए वाहनों के शीशे थोड़ा नीचे रखें ताकि जो न दिखे, उसे सुनकर यात्रा को सुरक्षित बनाया जा सके। इमरजेंसी स्टॉप होने पर, जहां तक संभव हो, वाहन को सड़क से नीचे उतारें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here