बगदाद एयरपोर्ट पर हुए हवाई हमले में ईरान के जनरल की मौत, ट्रंप ने लिया दूतावास पर हमले का बदला

0
12

बगदाद: इराक की राजधानी बगदाद में अंजाम दिए गए एक अमेरिकी हवाई हमले में ईरान की स्पेशल कुद्स फोर्स के चीफ जनरल कासिम सुलेमानी की मौत हो गई है। इस हमले में ईरान समर्थित मिलिशिया पॉप्युलर मोबिलाइजेशन फोर्सेज (PMF) के डेप्युटी कमांडर अबु महदी अल-मुहंदिस की भी मौत हुई है। PMF के अफसरों ने भी कहा कि इस हवाई हमले को अमेरिका ने अंजाम दिया है। आपको बता दें कि बगदाद में स्थित अमेरिकी दूतावास पर हुए हमले के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। बताया जा रहा है कि अल-मुहंदिस बगदाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर जनरल सुलेमानी को रिसीव करने के लिए आया हुआ था। बताया जा रहा है कि जनरल सुलेमानी का प्लेन लेबनान या फिर सीरिया से बगदाद पहुंचा था। जैसे ही जनरल अपने प्लेन से बाहर निकलकर अल-मुहंदिस और उसके साथियों से हाथ मिलाने के लिए आगे बढ़े, अमेरिका ने जबर्दस्त हवाई हमला किया जिसमें सारे लोग मारे गए। सुलेमानी के शव की पहचान उनकी अंगूठी से हो पाई। आपको बता दें कि इससे पहले भी सुलेमानी की मौत की अफवाह कई बार सामने आ चुकी है।

Steven nabil@thestevennabil

Is it the same ring or similar? Asking for expert opinion #Iraq , this is Qassim Sulaimani the Iranian leader of Quds force #Baghdad

Twitter पर छबि देखें
Twitter पर छबि देखें

1,7166:39 am – 3 जन॰ 2020Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता864 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका ने भी पुष्टि कर दी है कि यह हमला राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निर्देश पर अमेरिकी सेना द्वारा किया गया है। अमेरिका की तरफ से कहा गया है कि जनरल सुलेमानी ईराक और आसपास के इलाकों में मौजूद अमेरिकी डिप्लोमैट्स और सर्विस मेंबर्स को निशाना बनाने की योजना बना रहे थे। जनरल सुलेमानी और उनकी कुद्स फोर्स को सैकड़ों अमेरिकियों की मौत का भी जिम्मेदार ठहराया गया है। साथ ही इस सप्ताह बगदाद में स्थित अमेरिकी दूतावास पर हुए हमलों का जिम्मेदार भी जनरल सुलेमानी को ही ठहराया गया है। 

अमेरिका ने साथ ही कहा है कि उसने यह हमला ईरान के अगले हमलों को रोकने की नीयत से किया है। बयान में कहा गया है कि अमेरिका अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए और अपने हितों की रक्षा के लिए दुनिया में कहीं भी इस तरह के कदम उठाता रहेगा।अमेरिका की इस स्वीकारोक्ति के बाद माना जा रहा है कि ईरान भी चुप नहीं बैठेगा और अमेरिकी एवं इस्राइली हितों को नुकसान पहुंचाने की पूरी कोशिश करेगा।

Share this News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here